≡ Brain Berries 》 Have Some Berries For Your Brain!

वो सेलिब्रिटीज़ जो 2021 में शादी के बंधन में बंधे

शादी का बंधन एक पवित्र बंधन होता है। हालांकि इस साल कोरोनावायरस की वजह से कई शादियां बाधित हुई पर फिर भी लोगो ने कम लोगों की उपस्थिति में शादी समारोहों को संपन्न किया।


कोरोनावायरस के ओमीक्रोन वेरिएंट के बारे में आपको क्या जानना चाहिए

कोरोनावायरस ने पिछले दो सालों में अपने अनेक रूप रंग दिखाए हैं। उसके कई वेरिएंट आए और खासी तबाही मचाई। करोड़ों लोगों को अपनी चपेट में लिया और कइयों को अपनी जान गवानी पड़ी।

पिघलती हुई पर्माफ्रॉस्ट बन सकती है अगली महामारी का कारण

आज हम जिस महामारी की आशंका जता रहे है उसका सम्बंध भी प्रकृति से ही है। आइए जानते है की कैसे धरती पर जमी हुई करोड़ों साल पुरानी बर्फ़ की ज़मीन से आ सकती है अगली महामारी।

कोविड 19 ने ली इन सेलिब्रिटीज़ की जान

पिछले 2 वर्षों से कोरोनावायरस हमारे बीच घात लगाए बैठा है। हर दिन लाखों लोग अपनी जान गवां रहे थे। उसमे कुछ ऐसी जानी पहचानी हस्तियां भी थी जो इसका शिकार हुई।

2021 की 12 सबसे लोकप्रिय अभिनेत्रियाँ

इस बात से कोई इंकार नहीं किया जा सकता है कि बॉलीवुड में दुनिया की कुछ सबसे खूबसूरत अभिनेत्रियाँ हैं, जैसा आप सोचते हैं । ऐसा शायद इसलिए है कि उनमें से कई ने अपने अभिनय करियर की शुरुआत मॉडल के रूप में की थी।

बिशम्बर दास, पहली ब्रिटिश एशियाई प्लस-साइज़ मॉडल कि प्रेरक कहानी

एक समय था जब किसी मॉडल को इंडस्ट्री में जगह बनाने के लिए खुद को हर पैमाने पर खरा साबित करना पड़ता था। सौभाग्य से, वे दिन काफ़ी हद तक समाप्त हो गए हैं ।

बंगाल चुनाव में ममता बनर्जी की जीत के 7 कारण

पश्चिम बंगाल चुनाव में राज्य की जनता ने एक बार फिर से ममता बनर्जी को विजयी बनाया है और राज्य की कमान उन्हें सौंप दी है। ममता के सामने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी के अन्य दिग्गज नेताओं की नहीं चली और अंततः ममता बनर्जी की जीत हुई।

दुनिया के अन्य देशों के साथ भारत के अच्छे संबंध की 6 वजहें

किसी भी देश की विदेश नीति का मुख्य आधार देशहित होता है और ऐसा ही भारत के साथ भी है। भारत अंतर्राष्ट्रीय शांति एवं सुरक्षा को बेहतर बनाने, विभिन्न देशों के बीच मैत्रीपूर्ण संबंध बनाए रखने के लिए हमेशा प्रयास करता रहा है।

भारत में COVID की दूसरी घातक लहर के 8 कारण

पहली लहर की पीक एक दिन में अधिकतम 98 हजार मरीज़ों के साथ बनी थी, जिसके बाद संक्रमितों की संख्या में धीरे-धीरे कमी आने लगी और पहली लहर समाप्त हुई। लेकिन, मार्च 2021 में COVID की दूसरी लहर की शुरुआत हुई जोकि पहली लहर से कई गुना घातक साबित