≡ दुनिया के अन्य देशों के साथ भारत के अच्छे संबंध की 6 वजहें ➤ Brain Berries

दुनिया के अन्य देशों के साथ भारत के अच्छे संबंध की 6 वजहें

Advertisements

किसी भी देश की विदेश नीति का मुख्य आधार देशहित होता है और ऐसा ही भारत के साथ भी है। भारत अंतर्राष्ट्रीय शांति एवं सुरक्षा को बेहतर बनाने, विभिन्न देशों के बीच मैत्रीपूर्ण संबंध बनाए रखने के लिए हमेशा प्रयास करता रहा है। इस पोस्ट में हम जानेंगे दुनिया के अन्य देशों के साथ भारत के अच्छे संबंधों की 6 वजहें।

1. पंचशील सिद्धांत

पंचशील का सिद्धांत भारत की विदेश नीति का एक महत्वपूर्ण अवयव है। यह सिद्धांत विश्व में शांति स्थापित करने वाले मूल्यों को दर्शाता है। जवाहर लाल नेहरू ने विश्व शांति को व्यवहारिक रूप देने के लिए शांतिपूर्ण सहअस्तित्व के 5 सिद्धांत दिए जिसे पंचशील सिद्धांत के नाम से जाना जाता है। इन सिद्धांतों में शामिल थे – विभिन्न देशों की संप्रभुत्ता और अखंडता की रक्षा करना, दूसरे देशों पर आक्रमण नहीं करना, दूसरे देशों के आन्तरिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं करना, आदि।

2. गुटनिरपेक्षता की नीति

गुटनिरपेक्षता की नीति भारतीय विदेश नीति का महत्वपूर्ण अवयव होने के साथ ही उसका केंद्रबिंदु भी है। गुटनिरपेक्षता का अर्थ है – शीतयुद्ध या अन्य युद्ध जैसी स्थिति में किसी भी गुट की का समर्थन न करने की नीति। इस प्रकार गुटनिरपेक्षता की नीति को अंतर्राष्ट्रीय राजनीति में पृथक दृष्टिकोण अपनाने वाला सिद्धांत माना जाता है। यह नीति स्वतंत्र विदेश नीति के निर्धारण में, और गुण-दोष के आधार पर अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के मूल्यांकन में अहम भूमिका अदा करता है।

3. सामरिक संबंध

किसी भी देश की विदेश नीति का मुख्य उद्देश्य उसके देशहित में अभिवृद्धि और राष्ट्र की सुरक्षा होती है। ऐसा करने के लिए देश का सामरिक तौर पर मज़बूत होना आवश्यक है। इसके लिए भारत ने सामरिक संबंध विभिन्न देशों के साथ विकसित किए हैं, न कि किसी खास देश के साथ। इससे विश्व के विभिन्न देशों के बीच सामरिक संतुलन बना रहता है।

4. व्यापारिक संबंध

भारत ने विश्व के कई देशों के साथ बेहतर व्यापारिक संबंध स्थापित करने की दिशा में कई कदम उठाए हैं। परस्पर दोनों देशों के मध्य व्यापार के सुगमतापूर्वक संचालन के लिए भारत ने जैसे ‘फ्री ट्रेड एग्रीमेंट’, ‘प्रेफेरेंशियल ट्रेड एग्रीमेंट’, ‘ईज ऑफ़ डूइंग बिज़नेस’ जैसे कई प्रावधान किए हैं। इन प्रावधानों के तहत विभिन्न उत्पादों पर सीमा शुल्क में छूट दी जाती है, नियामक कानूनों एवं सब्सिडी आदि को सरल बनाया जाता है। 

5. बुनियादी अवसंरचना का निर्माण

बुनियादी अवसंरचना निर्माण में भारत ने कई देशों की मदद की है। अफगानिस्तान की संसद और सड़कों का निर्माण भारत के आर्थिक सहयोग के द्वारा ही किया गया है। नेपाल की कोशी परियोजना जो कि नेपाल में बिजली और सिंचाई का प्रमुख साधन है, इसकी स्थापना भी भारत के सहयोग से ही हुई है। इसके अलावा भारत ने अवसंरचना निर्माण में बांग्लादेश, भूटान और म्यांमार सहित अन्य देशों की भी मदद की है।

6. अन्य सहयोग

देश के विभिन्न देशों को जब भी कोई ज़रुरत पड़ी है, तो भारत ने उसकी मदद की है – चाहे हो सैन्य मदद हो या फिर स्वास्थ्य सहायता। श्रीलंका में आतंकवादी संगठन ‘लिट्टे’ के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए वहाँ की सरकार ने भारत से सहयोग माँगा था और भारत ने सैन्य सहायता की थी। COVID-19 महामारी में भी भारत ने कई देशों में चिकित्सीय सहायता उपलब्ध कराई, साथ ही 90 से अधिक देशों को वैक्सीन उपलब्ध कराई।

Loading...